Shrimad Bhagwat Gita / Shreemad Bhagwat Geeta In Hindi ,English ,Marathi, Telugu, Tamil, Bengali & French - Connected

Shrimad Bhagwat Gita / Shreemad Bhagwat Geeta In Hindi ,English ,Marathi, Telugu, Tamil, Bengali & French - Connected

Shrimad Bhagwat Gita / Shreemad Bhagwat Geeta In  Hindi ,English ,Marathi, Telugu, Tamil, Bengali & French - Connected

Shrimad Bhagwat Geeta In Hindi

श्रीमद्भगवद्‌गीता हिन्दुओं के पवित्रतम ग्रन्थों में से एक है। महाभारत के अनुसार कुरुक्षेत्र युद्ध में भगवान श्री कृष्ण ने गीता का सन्देश अर्जुन को सुनाया था। यह महाभारत के भीष्मपर्व के अन्तर्गत दिया गया एक उपनिषद् है। भगवत गीता में एकेश्वरवादकर्म योगज्ञानयोगभक्ति योग की बहुत सुन्दर ढंग से चर्चा हुई है। 

श्रीमद्भगवद्‌गीता की पृष्ठभूमि महाभारत का युद्ध है। जिस प्रकार एक सामान्य मनुष्य अपने जीवन की समस्याओं में उलझकर किंकर्तव्यविमूढ़ हो जाता है और जीवन की समस्यायों से लड़ने की बजाय उससे भागने का मन बना लेता है उसी प्रकार अर्जुन जो महाभारत के महानायक थे, अपने सामने आने वाली समस्याओं से भयभीत होकर जीवन और क्षत्रिय धर्म से निराश हो गए थेअर्जुन की तरह ही हम सभी कभी-कभी अनिश्चय की स्थिति में या तो हताश हो जाते हैं और या फिर अपनी समस्याओं से विचलित होकर भाग खड़े होते हैं। भारत वर्ष के ऋषियों ने गहन विचार के पश्चात जिस ज्ञान को आत्मसात किया उसे उन्होंने वेदों का नाम दिया। 

इन्हीं वेदों का अंतिम भाग उपनिषद कहलाता है। मानव जीवन की विशेषता मानव को प्राप्त बौद्धिक शक्ति है और उपनिषदों में निहित ज्ञान मानव की बौद्धिकता की उच्चतम अवस्था तो है हीअपितु बुद्धि की सीमाओं के परे मनुष्य क्या अनुभव कर सकता है उसकी एक झलक भी दिखा देता है।

श्रीमद्भगवद्गीता वर्तमान में धर्म से ज्यादा जीवन के प्रति अपने दार्शनिक दृष्टिकोण को लेकर भारत में ही नहीं विदेशों में भी लोगों का ध्यान अपनी और आकर्षित कर रही है। निष्काम कर्म का गीता का संदेश प्रबंधन गुरुओं को भी लुभा रहा है। विश्व के सभी धर्मों की सबसे प्रसिद्ध पुस्तकों में शामिल है। गीता प्रेस गोरखपुर जैसी धार्मिक साहित्य की पुस्तकों को काफी कम मूल्य पर उपलब्ध कराने वाले प्रकाशन ने भी कई आकार में अर्थ और भाष्य के साथ श्रीमद्भगवद्गीता के प्रकाशन द्वारा इसे आम जनता तक पहुंचाने में काफी योगदान दिया है।

हिंदी साहित्य मार्गदर्शन के माध्यम से भी हम सम्पूर्ण श्रीमद्‍भगवद्‍गीता प्रकाशित करेंगे, इस प्रयास के तहत हम सभी 18 अध्यायों और उनके सभी श्लोकों का सरल अनुवाद हिंदी में प्रकाशित करेंगे।

                                                       

Shrimad Bhagwat Geeta In English

Shrimad Bhagavad Gita is one of the holiest texts of the Hindus. According to Mahabharata, Lord Krishna narrated the message of Gita to Arjuna in the Kurukshetra war. It is an Upanishad given under Bhishma Parva of Mahabharata. Monotheism, Karma Yoga, Jnana Yoga, Bhakti Yoga have been discussed very beautifully in the Bhagavad Gita.

The background of Shrimad Bhagavad Gita is the war of Mahabharata. Just as a common man becomes confused by the problems of his life and instead of fighting with the problems of life, makes up his mind to run away from it, similarly Arjuna, who was the great hero of Mahabharata, feared the problems faced by him in life and Kshatriya. Disappointed with Dharma, like Arjuna, we all sometimes get frustrated in a state of uncertainty and or run away from our problems. The knowledge which was assimilated by the sages of India after deep thought, they gave the name of Vedas.

The last portion of these Vedas is known as Upanishad. The characteristic of human life is the intellectual power possessed by man and the knowledge contained in the Upanishads is not only the highest state of human intelligence, but also gives a glimpse of what man can experience beyond the limits of intelligence.

Shrimad Bhagavad Gita is currently attracting the attention of people not only in India but also abroad for its philosophical approach towards life more than religion. The message of Gita of Nishkaam Karma is also appealing to management gurus. It is included in the most famous books of all the religions of the world. Publications such as Gita Press Gorakhpur, which provide books of religious literature at a very low price, have also contributed greatly in making it accessible to the general public by publishing Shrimad Bhagavad Gita with meaning and commentary in many sizes.

We will also publish the entire Shrimad Bhagavad Gita through Hindi literature guidance, under this effort we will publish all 18 chapters and simple translations of all their shlokas in Hindi.

    

Shrimad Bhagwat Geeta In Marathi



श्रीमद्भगवद्गीता हा हिंदूंच्या पवित्र ग्रंथांपैकी एक आहे. महाभारतानुसार, भगवान श्रीकृष्णांनी कुरुक्षेत्र युद्धात अर्जुनाला गीतेचा संदेश सांगितला. हे महाभारताच्या भीष्मपर्वाखाली दिलेले एक उपनिषद आहे. भगवद्गीतेमध्ये एकेश्वरवाद, कर्मयोग, ज्ञान योग, भक्ती योग यांची अतिशय सुंदर चर्चा करण्यात आली आहे.

श्रीमद्भगवद्गीतेची पार्श्वभूमी महाभारताचे युद्ध आहे. ज्याप्रमाणे सामान्य माणूस आपल्या जीवनातील समस्यांमुळे गोंधळून जातो आणि जीवनातील समस्यांशी लढण्याऐवजी त्यापासून पळून जाण्याचे मन बनवतो, त्याचप्रमाणे अर्जुन, जो महाभारताचा महान नायक होता, त्याला येणाऱ्या समस्यांची भीती होती जीवनात आणि क्षत्रिय. अर्जुन सारख्या धर्मापासून निराश, आपण सर्वजण कधीकधी अनिश्चिततेच्या स्थितीत निराश होतो आणि किंवा आपल्या समस्यांपासून पळून जातो. भारताच्या gesषींनी सखोल विचार केल्यानंतर जे ज्ञान आत्मसात केले, त्यांनी वेदांना नाव दिले.

या वेदांचा शेवटचा भाग उपनिषद म्हणून ओळखला जातो. मानवी जीवनाचे वैशिष्ट्य म्हणजे मनुष्याकडे असलेली बौद्धिक शक्ती आहे आणि उपनिषदांमध्ये असलेले ज्ञान हे मानवी बुद्धिमत्तेची सर्वोच्च स्थिती आहेच, परंतु मनुष्य बुद्धिमत्तेच्या मर्यादेपलीकडे काय अनुभवू शकतो याची झलकही देतो.

श्रीमद्भगवद्गीता सध्या केवळ भारतातच नव्हे तर परदेशातही धर्मापेक्षा जीवनाकडे पाहण्याच्या तत्त्वज्ञानात्मक दृष्टिकोनासाठी लोकांचे लक्ष वेधून घेत आहे. निष्काम कर्माचा गीतेचा संदेश व्यवस्थापन गुरुंनाही आवाहन करणारा आहे. जगातील सर्व धर्मांच्या सर्वात प्रसिद्ध पुस्तकांमध्ये याचा समावेश आहे. गीता प्रेस गोरखपूर सारख्या प्रकाशनांनी, जे अत्यंत कमी किंमतीत धार्मिक साहित्याची पुस्तके पुरवतात, त्यांनी श्रीमद्भगवद्गीता अनेक आकारांमध्ये अर्थ आणि भाष्य प्रकाशित करून सामान्य लोकांसाठी सुलभ बनविण्यात मोठे योगदान दिले आहे.

आम्ही संपूर्ण श्रीमद्भगवद्गीता हिंदी साहित्य मार्गदर्शनाद्वारे देखील प्रकाशित करू, या प्रयत्नांतर्गत आम्ही सर्व 18 अध्याय आणि त्यांच्या सर्व श्लोकांचे साधे भाषांतर हिंदीमध्ये प्रकाशित करू.

        

Shrimad Bhagwat Geeta In Telugu

శ్రీమద్ భగవద్గీత హిందువుల పవిత్ర గ్రంథాలలో ఒకటి. మహాభారతం ప్రకారం, శ్రీకృష్ణుడు కురుక్షేత్ర యుద్ధంలో అర్జునుడికి గీత సందేశాన్ని చెప్పాడు. ఇది మహాభారతంలోని భీష్మ పర్వం క్రింద ఇచ్చిన ఉపనిషత్తు. భగవద్గీతలో ఏక దేవత, కర్మ యోగ, జ్ఞాన యోగ, భక్తి యోగ గురించి చాలా అందంగా చర్చించబడ్డాయి.

శ్రీమద్ భగవద్గీత నేపథ్యం మహాభారత యుద్ధం. ఒక సామాన్యుడు తన జీవిత సమస్యలతో గందరగోళానికి గురైనట్లే మరియు జీవిత సమస్యలతో పోరాడటానికి బదులుగా, దాని నుండి పారిపోవడానికి తన మనస్సును ఏర్పరచుకున్నట్లే, మహాభారతంలో గొప్ప హీరో అయిన అర్జునుడు తనకు ఎదురయ్యే సమస్యలకు భయపడ్డాడు. జీవితంలో మరియు క్షత్రియలో. అర్జునుడిలా ధర్మంతో నిరాశ చెందిన మనమందరం కొన్నిసార్లు అనిశ్చితి స్థితిలో నిరాశ చెందుతాము లేదా మా సమస్యల నుండి పారిపోతాము. లోతైన ఆలోచన తర్వాత భారతదేశంలోని saషులు గ్రహించిన జ్ఞానం, వారు వేదాల పేరును ఇచ్చారు.

ఈ వేదాలలో చివరి భాగాన్ని ఉపనిషత్ అంటారు. మానవ జీవితం యొక్క లక్షణం మనిషి కలిగి ఉన్న మేధో శక్తి మరియు ఉపనిషత్తులలో ఉన్న జ్ఞానం మానవ మేధస్సు యొక్క అత్యున్నత స్థితి మాత్రమే కాదు, తెలివితేటల పరిమితికి మించి మనిషి ఏమి అనుభవించవచ్చో ఒక సంగ్రహావలోకనం కూడా ఇస్తుంది.

శ్రీమద్ భగవద్గీత ప్రస్తుతం మతం కంటే జీవితం పట్ల తాత్విక విధానం కోసం భారతదేశంలోనే కాకుండా విదేశాలలో కూడా ప్రజల దృష్టిని ఆకర్షిస్తోంది. నిష్కామ్ కర్మ యొక్క గీత సందేశం నిర్వహణ గురువులను కూడా ఆకర్షిస్తుంది. ఇది ప్రపంచంలోని అన్ని మతాలలోని అత్యంత ప్రసిద్ధ పుస్తకాలలో చేర్చబడింది. చాలా తక్కువ ధరకు మత సాహిత్య పుస్తకాలను అందించే గీతా ప్రెస్ గోరఖ్పూర్ వంటి ప్రచురణలు కూడా శ్రీమద్ భగవద్గీతను అనేక పరిమాణాల్లో అర్థం మరియు వ్యాఖ్యానంతో ప్రచురించడం ద్వారా సాధారణ ప్రజలకు అందుబాటులో ఉండేలా చేయడంలో గొప్పగా దోహదపడ్డాయి.

మేము హిందీ సాహిత్య మార్గదర్శకత్వం ద్వారా మొత్తం శ్రీమద్ భగవద్గీతను కూడా ప్రచురిస్తాము, ఈ ప్రయత్నంలో మేము అన్ని 18 అధ్యాయాలు మరియు వారి అన్ని శ్లోకాల యొక్క సాధారణ అనువాదాలు హిందీలో ప్రచురిస్తాము. 

Shrimad Bhagwat Geeta In Tamil

ஸ்ரீமத் பகவத் கீதை இந்துக்களின் புனித நூல்களில் ஒன்றாகும். மகாபாரதத்தின்படி, குருக்ஷேத்திரப் போரில் கிருஷ்ணர் அர்ஜுனனுக்கு கீதையின் செய்தியை விவரித்தார். இது மகாபாரதத்தின் பீஷ்ம பர்வத்தின் கீழ் கொடுக்கப்பட்ட உபநிஷத் ஆகும். பகவத் கீதையில் ஏகத்துவம், கர்ம யோகம், ஞான யோகா, பக்தி யோகா ஆகியவை மிக அழகாக விவாதிக்கப்பட்டுள்ளன.

ஸ்ரீமத் பகவத் கீதையின் பின்னணி மகாபாரதப் போர். ஒரு சாதாரண மனிதன் தன் வாழ்க்கைப் பிரச்சினைகளால் குழப்பமடைந்து, வாழ்க்கைப் பிரச்சினைகளுடன் சண்டையிடுவதற்குப் பதிலாக, அதிலிருந்து தப்பி ஓட மனதை ஏற்படுத்துவது போல், மகாபாரதத்தின் மாவீரனாக இருந்த அர்ஜுனன், தான் எதிர்கொள்ளும் பிரச்சினைகளுக்கு அஞ்சினான். வாழ்க்கை மற்றும் க்ஷத்ரியத்தில். அர்ஜுனனைப் போல் தர்மத்தால் ஏமாற்றமடைந்த நாம் அனைவரும் சில நேரங்களில் நிச்சயமற்ற நிலையில் விரக்தி அடைந்துவிடுகிறோம் அல்லது நம் பிரச்சினைகளிலிருந்து தப்பித்து விடுகிறோம். ஆழ்ந்த சிந்தனைக்குப் பிறகு இந்தியாவின் முனிவர்களால் ஒருங்கிணைக்கப்பட்ட அறிவு, அவர்கள் வேதங்களின் பெயரை வழங்கினர்.

இந்த வேதங்களின் கடைசி பகுதி உபநிஷத் என்று அழைக்கப்படுகிறது. மனித வாழ்க்கையின் சிறப்பியல்பு என்பது மனிதனிடம் உள்ள அறிவுசார் ஆற்றல் மற்றும் உபநிஷதத்தில் உள்ள அறிவு மனித நுண்ணறிவின் மிக உயர்ந்த நிலை மட்டுமல்லாமல், புத்திசாலித்தனத்தின் வரம்புகளுக்கு அப்பால் மனிதன் என்ன அனுபவிக்க முடியும் என்பதையும் ஒரு பார்வை தருகிறது.

ஸ்ரீமத் பகவத் கீதை தற்போது மதத்தை விட வாழ்க்கையை நோக்கிய தத்துவ அணுகுமுறைக்காக இந்தியாவில் மட்டுமல்ல வெளிநாடுகளிலும் மக்களின் கவனத்தை ஈர்த்து வருகிறது. நிஷ்காம் கர்மாவின் கீதையின் செய்தி நிர்வாக குருக்களையும் ஈர்க்கிறது. இது உலகின் அனைத்து மதங்களின் புகழ்பெற்ற புத்தகங்களில் சேர்க்கப்பட்டுள்ளது. மிக குறைந்த விலையில் மத இலக்கிய புத்தகங்களை வழங்கும் கீதா பிரஸ் கோரக்பூர் போன்ற வெளியீடுகளும், ஸ்ரீமத் பகவத் கீதையை பல அளவுகளில் பொருள் மற்றும் வர்ணனையுடன் வெளியிடுவதன் மூலம் பொது மக்களுக்கு அணுகுவதில் பெரிதும் பங்களித்தன.

இந்தி இலக்கிய வழிகாட்டுதலின் மூலம் முழு ஸ்ரீமத் பகவத் கீதையையும் வெளியிடுவோம், இந்த முயற்சியின் கீழ் அனைத்து 18 அத்தியாயங்கள் மற்றும் அவர்களின் அனைத்து ஸ்லோகங்களின் எளிய மொழிபெயர்ப்புகளையும் இந்தியில் வெளியிடுவோம்.

Shrimad Bhagwat Geeta In Bengali

শ্রীমদ্ভগবদ গীতা হিন্দুদের অন্যতম পবিত্র গ্রন্থ। মহাভারতের মতে, শ্রীকৃষ্ণ কুরুক্ষেত্র যুদ্ধে অর্জুনের কাছে গীতার বাণী বর্ণনা করেছিলেন। এটি মহাভারতের ভীষ্ম পর্বের অধীনে প্রদত্ত একটি উপনিষদ। ভগবদ গীতায় একেশ্বরবাদ, কর্ম যোগ, জ্ঞান যোগ, ভক্তি যোগ খুব সুন্দরভাবে আলোচনা করা হয়েছে।

শ্রীমদ্ভগবদ গীতার পটভূমি হল মহাভারতের যুদ্ধ। একজন সাধারণ মানুষ যেমন তার জীবনের সমস্যার দ্বারা বিভ্রান্ত হয়ে পড়ে এবং জীবনের সমস্যার সাথে লড়াই করার পরিবর্তে এটি থেকে পালিয়ে যাওয়ার মন তৈরি করে, ঠিক তেমনি মহাভারতের মহানায়ক ছিলেন অর্জুন, তার সম্মুখীন সমস্যাগুলির আশঙ্কা করেছিলেন জীবনে এবং ক্ষত্রিয়। অর্জুনের মতো ধর্মে হতাশ, আমরা সবাই কখনও কখনও অনিশ্চয়তার অবস্থায় হতাশ হই এবং আমাদের সমস্যা থেকে পালিয়ে যাই। যে জ্ঞানটি ভারতের saষিরা গভীর চিন্তার পরে আত্মস্থ করেছিলেন, তারা বেদের নাম দিয়েছিলেন।

এই বেদের শেষ অংশ উপনিষদ নামে পরিচিত। মানুষের জীবনের বৈশিষ্ট্য হচ্ছে মানুষের অধিকারী বুদ্ধিবৃত্তিক শক্তি এবং উপনিষদে থাকা জ্ঞান মানুষের বুদ্ধির সর্বোচ্চ অবস্থা নয়, বরং মানুষ বুদ্ধির সীমা অতিক্রম করে কি অভিজ্ঞতা লাভ করতে পারে তার একটি আভাস দেয়।

ধর্মের চেয়ে জীবনের প্রতি দার্শনিক দৃষ্টিভঙ্গির জন্য শ্রীমদ্ভগবদ গীতা বর্তমানে শুধু ভারতে নয় বিদেশেও মানুষের দৃষ্টি আকর্ষণ করছে। নিষ্কাম কর্মের গীতার বার্তা ব্যবস্থাপনা গুরুদের কাছেও আবেদনময়ী। এটি বিশ্বের সকল ধর্মের সবচেয়ে বিখ্যাত বইয়ের অন্তর্ভুক্ত। গীতা প্রেস গোরখপুরের মতো প্রকাশনা, যা খুব কম মূল্যে ধর্মীয় সাহিত্যের বই সরবরাহ করে, শ্রীমদ্ভগবদ গীতাকে অনেক আকারে অর্থ ও ভাষ্য দিয়ে প্রকাশ করে এটি সাধারণ মানুষের কাছে সহজলভ্য করে তোলার ক্ষেত্রেও ব্যাপক অবদান রেখেছে।

আমরা হিন্দি সাহিত্য নির্দেশনার মাধ্যমে সম্পূর্ণ শ্রীমদ্ভগবদ গীতাও প্রকাশ করব, এই প্রচেষ্টার অধীনে আমরা হিন্দিতে তাদের সমস্ত শ্লোকের 18 টি অধ্যায় এবং সহজ অনুবাদ প্রকাশ করব।


Shrimad Bhagwat Geeta In French

Shrimad Bhagavad Gita est l'un des textes les plus sacrés des hindous. Selon le Mahabharata, le Seigneur Krishna a raconté le message de Gita à Arjuna lors de la guerre de Kurukshetra. C'est un Upanishad donné sous Bhishma Parva du Mahabharata. Le monothéisme, le Karma Yoga, le Jnana Yoga, le Bhakti Yoga ont été très bien discutés dans la Bhagavad Gita.

L'arrière-plan de Shrimad Bhagavad Gita est la guerre du Mahabharata. Tout comme un homme ordinaire devient confus par les problèmes de sa vie et au lieu de se battre avec les problèmes de la vie, décide de s'enfuir, de même Arjuna, qui était le grand héros du Mahabharata, craignait les problèmes auxquels il était confronté. dans la vie et Kshatriya. Déçus par le Dharma, comme Arjuna, nous sommes tous parfois frustrés dans un état d'incertitude et/ou fuyons nos problèmes. La connaissance qui a été assimilée par les sages de l'Inde après une profonde réflexion, ils ont donné le nom de Vedas.

La dernière partie de ces Vedas est connue sous le nom d'Upanishad. La caractéristique de la vie humaine est la puissance intellectuelle possédée par l'homme et la connaissance contenue dans les Upanishads n'est pas seulement l'état le plus élevé de l'intelligence humaine, mais donne également un aperçu de ce que l'homme peut expérimenter au-delà des limites de l'intelligence.

Shrimad Bhagavad Gita attire actuellement l'attention des gens non seulement en Inde mais aussi à l'étranger pour son approche philosophique de la vie plus que de la religion. Le message de Gita de Nishkaam Karma fait également appel aux gourous de la gestion. Il est inclus dans les livres les plus célèbres de toutes les religions du monde. Des publications telles que Gita Press Gorakhpur, qui fournissent des livres de littérature religieuse à un prix très bas, ont également grandement contribué à le rendre accessible au grand public en publiant Shrimad Bhagavad Gita avec du sens et des commentaires dans de nombreux formats.

Nous publierons également l'intégralité de la Shrimad Bhagavad Gita grâce aux conseils de la littérature hindi, dans le cadre de cet effort, nous publierons les 18 chapitres et les traductions simples de tous leurs shlokas en hindi.

0 Response to "Shrimad Bhagwat Gita / Shreemad Bhagwat Geeta In Hindi ,English ,Marathi, Telugu, Tamil, Bengali & French - Connected"

Post a Comment

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel